बड़ी खबर - 1000 अतिथि शिक्षकों की सरकार ने की छुट्टी , उग्र आंदोलन की चेतावनी CG Atithi Shikshakon Ki Sarkar Ne Ki Chhutti

 नियमितिकरण की आस लगाए बैठे अतिथि शिक्षकों को जोर का झटका , सरकार ने नौकरी से किया बाहर CG 1000 Atithi Shikshak Naukri Se Huye Bahar , CG Atithi Shikshakon Ki Sarkar Ne Ki Chhutti 

a2zkhabri.com रायपुर / CG Atithi Shikshakon Ki Sarkar Ne Ki Chhutti - प्रदेश में कार्यरत अतिथि शिक्षक सरकार के वादे के मुताबिक़ अपने नियमितीकरण की आस लगाए बैठे थे, नियमितीकरण तो दूर की बात सरकार ने सीधे उन्हें नौकरी से ही बाहर कर दिया। 1000 अतिथि शिक्षक जैसे  तैसे अपने परिवार का भरण पोषण कर रहे थे , लेकिन सरकार ने उन्हें एक झटके में ही बेरोजगार कर दिया। 

अन्य जानकारी इसे भी अवश्य देखें- 

निष्ठा प्रशिक्षण पूर्णता प्रमाण पत्र जमा करने निर्देश जारी। 

क्रमोन्नति प्रकरण जल्द निराकरण करने निर्देश जारी। 

छत्तीसगढ़ 655 सब इन्स्पेक्टर भर्ती। 

छत्तीसगढ़ व्यापम लेगी छात्रावास अधीक्षक की भर्ती। 

आज स्कूल शिक्षा विभाग से एक बड़ी और चौकाने वाली खबर सामने आई।  दरअसल प्रदेश में पिछले कुछ वर्षो से हजारों की संख्या में प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अतिथि शिक्षक कार्य कर रहे थे। चुनाव के वक्त सरकार ने इन्हे नियमित करने का वादा किया था , लेकिन आज स्कूल शिक्षा विभाग से जारी आदेश अनुसार 1000 अतिथि शिक्षकों को नौकरी से बाहर कर दिया गया है। 

स्कूल शिक्षा विभाग के द्वारा जारी आदेश अनुसार अब अतिथि शिक्षक 31 मार्च तक ही कार्य कर पाएंगे। 01 अप्रैल से प्रदेश में नियमित शिक्षकों की पदस्थापना प्रारम्भ हो जाएगी। अतिथि शिक्षकों के स्थान पर नियमित शिक्षक पदस्थ हो जायेंगे। ज्ञात हो की प्रदेश में सन 2017 में लगभग 2500 पदों  शिक्षक की भर्ती हुई थी जिसमे से 300 को पहले और आज 1000 को नौकरी से बाहर कर दिया गया है। 

आदेश जारी होते ही विद्या मितान संघ एवं विभिन्न संगठनों ने विरोध जारी करना शुरू कर दिया है। उन लोगो का कहना है की सरकार सत्ता में आने के लिए तरह - तरह के वादे करते है लेकिन सत्ता  ही वादों को पूरा करना तो दूर की बात अब उन्हें सीधे नौकरी  बाहर करने लग गए है। अतिथि शिक्षकों को नौकरी से बाहर करते ही शिक्षक एवं उनका परिवार मानसिक तनाव में आ गया है , और भविष्य की चिंता उन्हें खाई  है। 

नियमित करने का सरकार ने किया था वादा - ज्ञात हो की प्रदेश में  2018 के विधान सभा चुनाव के ठीक पहले सरकार ने संविदा एवं अन्य अस्थायी रूप से कार्यरत सभी कर्मचारी को नियमित करने की घोषणा की गई थी , लेकिन उन घोषणाओं पर अमल तो नहीं हुआ उलटे उन्हें नौकरी से ही हाथ धोना पड़ गया। 1000 अतिथि शिक्षक एक झटके में ही बेरोजगार हो गए। 

आंदोलन की चेतावनी - अतिथि शिक्षकों  को नौकरी से निकालने की जानकारी जैसे ही  सोसल मिडिया न्यूज चैनलों एवं  वेब पोर्टलों के माध्यम से जानकारी प्राप्त हुई। तब से चारों ओर विरोध चालू हो गया है। नौकरी से निकाले गए अतिथि शिक्षक , विद्या मितान सहित अन्य संगठन आंदोलन की चेतावनी भी देने लग गए है। 

अन्य महत्वपूर्ण खबर इसे भी अवश्य देखें - 

आईपीएल 2021 पूर्ण शेड्यूल यहाँ देखें। 

शिक्षकों की पदोन्नति लिस्ट जारी। 

Post a comment

0 Comments