स्कूलों में कोरोना की संख्या बढ़ी तो तत्काल स्कूल होंगे बंद - शिक्षामंत्री Schoolon Me Corona Ke Mamle Badhe To Tatkal School Honge Band

 स्कूल खोलने के सम्बन्ध में शिक्षामंत्री का बड़ा बयान , कोरोना के मामले बढ़ने पर तत्काल स्कूल होंगे बंद School Will Be Closed Immediately As Corona Cases Increase 

a2zkhabri.com रायपुर - स्कूल शिक्षा मंत्री का प्रदेश के 2 - 3 स्कूलों में बच्चों और शिक्षकों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद बड़ा बयान आया है। उन्होंने समाचार पत्र में दिए इंटरब्यू में कहा की प्रदेश में स्कूल किसी के दबाव में नहीं खोले गए है। कोरोना के मामले बढ़ने पर स्कूल खोलने के निर्णय पर फिर से विचार करने की बात कही। 

ज्ञात हो कि प्रदेश में पिछले 11 माह बाद हाई एवं हायर सेकेंडरी स्कूल को 15 फरवरी से खोला गया है। स्कूल खोलते ही सबसे पहले राजनाँदगाँव में स्कूली बच्चे एवं स्टाफ सहित लगभग दो दर्जन कर्मचारियों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। उस घटना के 24 घंटे के अंदर ही जशपुर एवं अंबिकापुर में भी स्कूली बच्चों के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हो गई। 

इसे भी पढ़ें - पदोन्नति नहीं होने से नाराज एलबी संवर्ग के शिक्षक छोड़ेंगे प्रभारी प्रधान पाठक के पद। 

समाचार पत्र को अपने दिए इंटरब्यू में प्रदेश के शिक्षा मंत्री माननीय प्रेमसाय सिंह टेकाम ने बताया कि स्कूल खोलने का निर्णय कोई घातक फैसला नहीं है। महीने भर में तो स्कूल फिर से बंद हो जायेंगे। स्कूलों में फिर परीक्षाएं आयोजित होगी। राजनांदगाव में जो बच्चे पॉजिटिव पाए गए वे वही कैम्पस में ही रहते थे। आखिरकार बोर्ड एग्जाम के समय पालक अपने बच्चों को परीक्षा हेतु तो भेजेंगे ही ना। 

इसे भी देखें - 1998 बैच के शिक्षकों ने पुरानी पेंशन हेतु दायर किया याचिका, 03 माह में होगा निराकृत। 

शिक्षा मंत्री ने कहा की पढ़ाई तो निरंतर ऑनलाइन एवं मोहल्ला क्लास के माध्यम से जारी ही है , स्कूल खोले है इसका मतलब सबको आना है यह जरुरी नहीं है , जो चाहे वे स्कूल आ सकते है और जो ना चाहे वे न आये अभी स्कूलों में गैरहाजिर नहीं लगेगी। यानी अटेंडेंस की दिक्कत ही नहीं है। पढ़ाई की प्रायोरिटी ऑनलाइन ही है।

इसे भी पढ़ें - शिक्षक, छात्रावास अधीक्षक सहित अन्य रेगुलर 4000 पदों में पुनः होगी भर्ती।  

शिक्षा मंत्री ने साफ़ कहा कि हमने स्कूल प्रबंधकों से कहा कि केंद्र की कोविड को लेकर दी गई गाइड लाइन का पालन करें। स्कूलों में बिना मास्क कोई नहीं आएगा। सेनिटाइजर का प्रयोग करेंगे। हाँथ निरंतर धोते रहेंगे। सोसल और फिजिकल डिस्टेंसिंग बनाकर रखेंगे। सरकारी स्कूलों में इसका इंतजाम करके रखा गया है। सभी स्कूलों  गाइडलाइन का पालन करवाया जा रहा है , सर्दी खांसी से पीड़ित है तो वह स्कूल न आए। 

इसे भी देखें - 22 हजार प्राथमिक प्रधान पाठक के पदों में होगी पदोन्नति। 

पालक संघ ने हाई कोर्ट में दायर किया याचिका - स्कूल खोलने के खिलाफ पालक संघ ने हाईकोर्ट में स्कूल बंद कराने के सम्बन्ध में याचिका दायर किये है। इस सम्बन्ध में माननीय मंत्री जी ने कहा कि स्कूल किसी भी के दबाव में नहीं खोला गया है। प्रबंधकों , पालकों की राय लेकर ही स्कूल खोला गया है। वर्तमान में अभी हाई एवं हायर सेकेंडरी के बच्चो के लिए  खोला गया है। कोरोना के मामले बढ़ने पर तत्काल इस फैसले पर विचार किया जायेगा। 

Post a comment

0 Comments