नई पेंशन योजना (NPS ) के दुष्परिणाम - व्याख्याता को मिलेगा मात्र 599 रु. पेंशन The Effect Of The New Pension Scheme , Lacturer Will Get Muster Rs. 599 Pension

 व्याख्याता का मासिक वेतन 53000 हजार रुपए, रिटायरमेंट के बाद पेंशन बना 599 रु. नई पेंशन नीति का दुष्परिणाम आया सामने New Pension Scheme , The Effect Of The New Pension Scheme , Lacturer Will Get Muster Rs. 599 Pension 

a2zkhabri.com कवर्धा - सरकार ने सन 2004 में पुरानी पेंशन योजना की जगह शेयर मार्किट आधारित नवीन पेंशन योजना लागू करते  हुए बताया था कि इससे कर्मचारियों को लाभ होगा , लेकिन कुछ ही सालों बाद अब इसका भयंकर दुष्परिणाम सामने आने लगा है। बुढ़ापे में कर्मचारी का पेंशन ही उनका लाठी ( सहारा ) होता है जिसे सरकार ने बेरहमी से छीन लिया है। 

इसे भी देखें - क्रमोन्नति प्रकरण निराकरण हेतु कोर्ट का आदेश जारी। 

कवर्धा जिले के एलबी संवर्ग के प्रथम सेवानिवृत शासकीय व्याख्याता का पेंशन मात्र 599 रु. निर्धारित हुआ है। कवर्धा जिले के अंतर्गत विकास खंड बोड़ला में व्याख्याता के पद पर शासकीय हाई स्कूल मिनमिनिया मैदान में पदस्थ रही श्रीमती वनमाला खापर्डे की नियुक्ति सन 1999 में शिक्षाकर्मी के रूप में हुआ था। जिनका संविलियन स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत 1 जुलाई 2018 को एलबी संवर्ग में व्याख्याता के पद पर हुआ। 

इसे भी पढ़ें - छत्तीसगढ़ सब इन्स्पेक्टर भर्ती , देखें विज्ञापन। 

स्कूल शिक्षा विभाग में शासकीयकरण के बाद जून 2019 में 62 वर्ष की आयु पूर्ण करने पर सेवा निवृत किया गया। सेवानिवृत्ति के समय उनकी कुल मासिक वेतन लगभग 53000 रु. थी , जिनका मासिक पेंशन अब मात्र 599 रु. निर्धारण किया गया है। इस प्रकार सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि तिरपन हजार रु. मासिक वेतन पाने वाले शासकीय कर्मचारी अब 599 रु, पेंशन पायेगा। मात्र 599 रु. में जीवन निर्वाह कैसे करेगा यह सोचने वाली बात है। 

इसे भी देखें- छत्तीसगढ़ व्यापम लेगी छात्रावास अधीक्षक की भर्ती। 

जनघोषणा पत्र में पुरानी पेंशन देने का वादा - प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने पिछले विधानसभा चुनाव  अपने घोषणा पत्र के माध्यम से वादा किये थे कि सीपीएफ पर विचार कर 2004 के पूर्व जारी पेंशन योजना को लागु करने की कार्यवाही करने की बात की गई थी। 

छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग ने 16 फरवरी 2021 के जारी आदेश में प्रदेश सरकार के जनघोषणा पत्र में किए गए वादे के विपरीत एलबी संवर्ग के शिक्षकों को पुरानी पेंशन नहीं दिए जाने का उल्लेख किया है। जिससे शिक्षा विभाग के साथ - साथ अन्य विभाग के कर्मचारी जो नवीन पेंशन के दायरे में आते है उनमे भारी आक्रोश है। 

इसे भी देखें- छत्तीसगढ़ व्यापम पटवारी के पदों में होगी बम्पर भर्ती। 

इस वर्ष 6 शिक्षक होंगे सेवानिवृत - कवर्धा जिले के अंतर्गत कार्यरत एलबी संवर्ग के 6 शिक्षक इस वर्ष सेवानिवृत होने वाले है। नवीन पेंशन योजना के अंतर्गत आने वाले ये सभी शिक्षक क्रमशः धर्मी दास माहिले, नरेंद्र सिंह ठाकुर, हाफीजा बेगम, निर्मला ठाकुर, चंद्र प्रकाश बाटवे एवं राजिंदर कौर खुराना शामिल है। 

रायपुर में होगा महाधरना - प्रदेश के राजधानी में नवीन पेंशन योजना के दायरे में आने वाले लगभग 2 लाख 80 हजार कर्मचारी का पुरानी पेंशन बहाली हेतु महाधरना और रैली 13 मार्च को आयोजित  है। 13 मार्च को एनपीएस कर्मचारी रायपुर के बूढ़ा तालाब के पास महाधरना एवं रैली का आयोजन करेंगे। उक्त रैली में प्रदेश के सभी एनपीएस कर्मचारी को उपस्थित होने अपील किया गया है। 

नई पेंशन स्कीम में शामिल कर्मचारी एक न एक दिन इस दुष्परिणाम से गुजरेंगे। इसलिए अपने अधिकार और हक़ की लड़ाई हेतु धरना प्रदर्शन रैली  शामिल होवें। सेवानिवृत्ति के बाद सुरक्षित भविष्य के लिए पुरानी पेंशन बहाली की मांग लगातार किया जा रहा है। 

Post a comment

0 Comments