शिक्षाकर्मी से घूंस मांगना बाबू को पड़ा महंगा ,अधिकारी ने एक माह का वेतन किया कट और नोटिस जारी Clerk Seeking Heavy Duty From Shikshakarmi Salary Stall Notice Issued

 शिक्षाकर्मी नेता से पैसे की बात करना बाबू को पड़ा भारी - संविलियन अधिकार मंच की शिकायत के बाद बाबू का वेतन रुका और नोटिस जारी Clerk Seeking Heavy Duty From Shikshakarmi Salary Stall Notice Issued 

a2zkhabri.com कवर्धा - शिक्षाकर्मी से लेनदेन की मांग करना कबीरधाम जिले के बोड़ला नगर पंचायत के बाबू को बहुत भारी पद गया है। जहाँ एक ओर इस कृत्य की प्रदेश में भारी आलोचना हो रही है वही संविलियन अधिकार मंच की लिखित शिकायत के बाद नगर पंचायत बोड़ला के सीएमओ ने इस बाबू को सजा के तौर पर उन्हें एक माह के लिए अवैतनिक कर दिया है। वही उन्हें नोटिस जारी कर जवाब प्रस्तुत करने कहा है। संतोषप्रद जवाब नहीं मिलने पर उन्हें सेवा से पृथक करने की कार्यवाही भी किया जा सकता है। 

इसे भी अवश्य देखें - छत्तीसगढ़ के सभी 23 नए तहसीलों की जिलावार सूचि। 

ज्ञात हो की पिछले कुछ दिन पहले एक ऑडियो वायरल हुआ था जिसमे बोड़ला नगर पंचायत में पदस्थ बाबू ने शिक्षा कर्मी से नियमितीकरण सहित विभिन्न बातों के एवज में 50 प्रतिशत राशि की मांग करना स्वीकार किया था जिसका ऑडियो पुरे प्रदेश में चर्चा का विषय बना हुआ था। 

इसे भी देखें - घूंस नहीं देने पर रोके जा रहे शिक्षाकर्मियों के विभिन्न आदेश। 

पीड़ित शिक्षकों ने अपने संगठन के प्रदेश अध्यक्ष श्री विवेक दुबे से इसकी शिकायत की थी तब श्री दुबे जी सम्बंधित बाबू से बातचीत किये थे जिसमे उस बाबू ने लेनदेन की बात स्वीकार किये थे और वही ऑडियो वायरल हुआ था। उक्त घटना की शिकायत श्री दुबे ने सम्बंधित सीएमओ और राज्य स्तर तक किये है। शिकायत के बाद उस बाबू को एक माह के लिए सीएमओ ने अवैतनिक करते हुए सजा दिए है वही नोटिस भी जारी किये है। संतोषप्रद जवाब नहीं मिलने पर उन्हें सेवा से पृथक करने की कार्यवाही भी किया जा सकता है। 

इसे भी देखें - छत्त्तीसगढ़ आरक्षक भर्ती प्रक्रिया शुरू देखें विवरण। 

लिपिकों ने की निंदा - व्हाट्सएप में चर्चा अनुसार बहुत से लिपिकों ने उनके ऊपर कार्यवाही करने की भी मांग कर डाली ,क्योंकि एक लिपिक के वजह से पुरे लिपिक समुदाय की किरकिरी हो रही थी। प्रदेश में इस तरह का यह पहला मामला नहीं है ,वैसे कई मामले समय - समय पर उजागर होते रहे है। कुछ शिक्षाकर्मी साथी शिकायत करने की हिम्मत नहीं जुटा पाते और अपनी मेहनत की कमाई लिपिकों सहित अधिकारीयों को चढ़ा देते है। 

इसे भी देखें - व्हाट्सएप्प में पेमेंट ऑप्शन जुड़ा देखें अपने सेटिंग को और करें ये स्टेप का फालों। 

ऐसी घटनाओं पर लगाम जरुरी - किसी की हक़ की पैसे को जबरन दबाकर बैठना और उनसे 50 प्रतिशत राशि की घूंस मांगना यह बहुत बड़े अपराध की श्रेणी में आता है। ऐसे घटनाओं में संलिप्त अधिकारीयों एवं कर्मचारियों पर कठोर कार्यवाही अति आवश्यक है। यदि सभी शिक्षक साथी सहित सभी नागरिक जागरूक और शिकायत करने की हिम्मत करें तो इस प्रकार की घटनाओ पर धीरे - धीरे लगाम लगाया जा सकता है। 

नोट - शासन की योजनाए सहित लेटेस्ट खास खबर  अपने मोबाइल पर a2zkhabri.com सर्च करें। 

Post a comment

0 Comments