शोर न शराबा और ख़त्म हो गई गैस सब्सिडी No Noise , Subsidy On Gas Ends

 घरेलु सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी लगभग ख़त्म , अब खाते में आ रहे 5 रु. 04 पैसे Shor n Sharaba Aur Khatm Ho Gai Gais Subsidy 


a2zkhabri.com न्यूज़ - प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी को अब देश की जनता से घरेलु गैस की सब्सिडी छोड़ने का आग्रह नहीं करना पड़ेगा , क्योंकि उनकी मंशा पेट्रोलियम कंपनियों ने बड़ी आसानी से कर दी है। पिछले कई सालों से आम उपभोगताओं को घरेलु गैस पर मिलने वाली सब्सिडी लगभग अब ख़त्म होने की कगार पर पहुँच चुकी है।

इसे भी अवश्य देखें- प्रधान मंत्री आवास योजना लाभार्थी नई लिस्ट जारी। 

पिछले वर्ष जहाँ अप्रैल तक गैस सब्सिडी के रूप में लोगो के खाते में 191.04 रु. डाले जा रहे थे। वही अब कई महीनो से मात्र 5.04 रु. सब्सिडी के रूप में आ रही है। समझा जा सकता है कि यह नाम मात्र की सब्सिडी कभी भी ख़त्म हो सकती है। और यदि जारी भी रहा तो इतने रूपये का कोई औचित्य नहीं है। 

इसे भी देखें- अभी तक प्राप्त किये गैस सब्सिडी राशि का विवरण यहाँ देखें। 

सब्सिडी लेस हो गई जनता - घरेलु गैस पर दी जा रही छूट ख़त्म होने से गरीब और मध्यम वर्ग के परिवारों के जेब पर करीब 200 रु. का अतिरिक्त भार पड़ेगा। मजे की बात इतनी बड़ी घटना का विरोध होना तो दूर की बात शोर भी नहीं हुआ। दरअसल यह बड़ी चालाकी से और योजनाबद्ध तरीके से किया गया है। यही कारण है कि जनता को पता ही नहीं चला की वे कब सब्सिडी लेस हो गए। 

इसे भी देखें - आधार कार्ड त्रुटिसुधार सहित अन्य जानकारी अपडेट ऐसे करें। 

इस तरह किया गया खेल - जानकारों का मानना है इसके लिए भी पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाने वाला फंडा अपनाया गया। मतलब लोगो के आक्रोश से बचने के लिए काम को धीरे - धीरे अंजाम देने की रणनीति अपनाई गई है। जरा सा गौर करने पर यह मामला को आसानी से समझा जा सकता है। 

गैस कंपनियों के द्वारा अचानक से मई 2020 में गैस के दाम को 170 रु. घटा दिया गया था। अर्थात उस समय गैस के दाम 770 रु. से 600 रु. हो गई थी। इसी के साथ गैस के साथ मिलने वाली 191 रु. की सब्सिडी भी ख़त्म कर दी गई। फिर जून से सिलेंडर के दाम बढ़ने शुरू हुए और सब्सिडी भी शुरू हुई लेकिन मात्र 6 रु. 54 पैसे। पिछले वर्ष दिसंबर में ही दो बार 50 - 50 रु. गैस के दाम बढ़ा दिए थे। इस तरह से गैस के दाम बढ़कर फिर से 717 रु. हो गई और सब्सिडी मिला सिर्फ 5 रु. 04 पैसे। 

घटते बढ़ते दाम - 

अप्रैल 2020 ,  गैस की कीमत - 770 रु. 50 पैसे , सब्सिडी - 191 .04 रु. 

मई 2020 , गैस की कीमत - 600 रु., सब्सिडी - 00 रु. 

जून 2020 , गैस की कीमत - 618 रु. 50 पैसे , सब्सिडी - 06 .54 रु.

जुलाई 2020 , गैस की कीमत - 618 रु. 50 पैसे , सब्सिडी - 06 .04 रु.

अगस्त  2020 , गैस की कीमत - 618 रु. 50 पैसे , सब्सिडी - 06 .04 रु.

सितम्बर 2020 , गैस की कीमत - 617 रु. , सब्सिडी - 5.04 रु.

अक्टूबर 2020 , गैस की कीमत - 617 रु. , सब्सिडी - 5.04 रु.

नवम्बर 2020 , गैस की कीमत - 617 रु. , सब्सिडी - 5.04 रु.

02 दिसंबर 2020,  गैस की कीमत - 667 रु. , सब्सिडी - 5.04 रु

15 दिसंबर 2020 ,  गैस की कीमत - 717 रु. , सब्सिडी - 5.04 रु.


Post a comment

0 Comments