पर्स रखने से रीढ़ की हड्डी को खतरा , आप भी हो जाये सतर्क The Disadvantage Of Keeping a Purse In The Back Pocket

 पीछे जेब में पर्स रखने के है भारी नुकसान , होती है गंभीर बीमारी Purse Rakhne Se Ridh Ki Haddi Ko Khatra 


a2zkhabri.com हेल्थ न्यूज़ - अधिकांश पुरुष अपना पर्स पेंट की पीछे वाली जेब में रखते है। अगर आप भी ऐसा करते है, तो अपनी यह आदत आप भी बदल ले। दरअसल हममे से ज्यादातर लोग पर्स में नोट के अलावा ढेर सारे सिक्के एवं पहचान पत्र रखते है। जिसके कारण पर्स बहुत मोटा हो जाता है। ऐसे में जब आप पीछे के पॉकेट में पर्स रखकर बैठते है तो आपके कूल्हे का बैलेंस बिगड़ जाता है। 

इसे भी देखें - प्रधान मंत्री आवास योजना नई लिस्ट जारी देखें अपना नाम। 

बैलेंस बिगड़ने के साथ - साथ पिछले हिस्से के कुछ विशेष नसे दब जाती है। जिस कारण से अनेकों प्रकार की शारीरिक कष्ट प्रारम्भ हो जाती है। पीछे के पॉकेट के बजाय सामने के जेब में पर्स रखना चाहिए। 

पीछे के जेब में पर्स रखने से क्या - क्या नुकसान होता है - पीछे के जेब में पर्स रखने के बहुत से नुकसान है ,यहाँ पर हम कुछ महत्वपूर्ण बिमारियों के बारे में चर्चा करते है जो होने के अधिकतर चांस रहते है - 

इसे भी देखें- राजीव गाँधी किसान न्याय योजना के तहत सभी के खतों में राशि जारी। 

साइटिका रोग की आशंका - जब आप पर्स को पिछली जेब में रखकर बैठते है, तो इससे कमर पर दबाव पड़ता है। चुकी कमर से ही कूल्हे की सायटिका नस गुजरती है, इस लिए इस दबाव के कारण कूल्हे एवं कमर में दर्द हो सकता है। इससे आपके हिप ज्वाइंट्स में मौजूद पिरिफार्म मसल्स पर भी दबाव पड़ता है। जब आप लम्बे समय तक पर्स रखकर बैठते है तो नसे पर्स एवं हिप्स के बीच दब जाती है। 

इसे भी देखें - इम्युनिटी क्या है..? फीट एवं स्वस्थ रहने के 8 उपाय। 

ब्लड सर्कुलेशन पर बुरा प्रभाव - हमारे शरीर में नसों  है , जो एक अंग को दूसरे अंग से जोड़ती है।  कई नसे ऐसे भी होती है जो दिल की धमनियों से होते हुए कमर एवं कूल्हे के रास्ते से पैरों तक पहुंचती है। पीछे के जेब में पर्स रखकर लगातार बैठने से इन नसों पर दबाव पड़ता है  जिससे कई बार खून का प्रवाह रुक जाता है। लम्बे समय तक ऐसे स्थिति बने रहने से नसों में सूजन आ जाती है। 

इसे भी पढ़ें - प्रधान मंत्री सम्मान निधि की अगली क़िस्त जारी। 

रीढ़ की हड्डी को भी खतरा - बैक पैकेट में पर्स होने की वजह से शरीर का बैलेंस ठीक नहीं बनता और व्यक्ति सीधा नहीं बैठ सकता।  इस तरह बैठने से रीढ़ की हड्डी भी झुकती है। इस वजह से स्पाइनल ज्वाइंट्स , मसल्स एवं डिस्क आदि में दर्द होता है। और धीरे - धीरे छतिग्रस्त हो जाते है। 

पिरिफॉर्मिंस सिंड्रोम का खतरा - पेंट की पिछली जेब में पर्स रखने से पिरिफोर्मिंग सिंड्रोम नाम की बीमारी का खतरा बना रहता है।  इस बीमारी में मरीज को असहनीय दर्द होता है। लगातार बैठे रहने से पर्स से पिरिफिरमींस मसल्स दब जाती है जिससे पैरों में तेज दर्द होने लगता है। इस बीमारी से छुटकारा पाने के लिए सर्जरी भी करवानी पड़ सकती है। 

अन्य जानकारियां - 

Post a comment

0 Comments