स्कूल भले देर से खुलेंगे, लेकिन इस माह के अंत तक पढ़ाई होगी प्रारम्भ School May Be Late But Will Start Studies

स्कूल भले देर से खुलेंगे लेकिन पढ़ाई इस माह के अंत तक होगी प्रारम्भ मानव संसाधन विकास मंत्रालय में विस्तृत दिशा निर्देश तैयार School Bhale Der Se Khulenge Lekin Is Mah Ke Ant Tak Hogi Padhai Shuru 

इस माह के अंत तक शुरू हो सकते है 12 नए स्कूली चैनल, एनसीईआरटी एवं केवीएस को अध्ययन सामग्री तैयार करने दिया लक्ष्य,19 को ख़त्म हो रही केवीएस संगठनों के स्कूलों की छुट्टी, 30 जून को ख़त्म हो रहे राज्यों के स्कूलों की छुट्टी, हर क्लास के लिए एक चैनल ,24 घंटे चलेंगे चैनल, पाठ्य सामग्री होगी रिपीट। 


School May Be Late But Will Start Studies - प्रदेश सहित देश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए स्कूल के खुलने को लेकर अभी भले ही संसय बना हुआ है , लेकिन सरकार ऑनलाइन पढाई को समय पर शुरू करना चाहती है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय में इसको लेकर तेजी से तैयारी चल रही है। स्कूलों के लिए एक क्लास एक चैनल की प्रस्तावित योजना के तहत 12 नए टीवी चैनल को जून के अंत तक शुरू किया जा सकता है। इसके साथ ही दूसरे माध्यमों से भी छात्रों को घर बैठे पढ़ाई शुरू कराने की तैयारी चल रही है। 


स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई को लेकर नए सिरे से यह हलचल उस समय शुरू हुई है,जब स्कूलों की गर्मियों की छुट्टियां ख़त्म होने वाली है। केंद्रीय विद्यालय संगठन के स्कूलों की छुट्टी 19 जून को ख़त्म हो रही है। वही ज्यादातर राज्यों की छुट्टियां 30 जून तक ख़त्म हो रही है। यानि एक जुलाई से नया सत्र प्रारम्भ हो जायेगा हालाँकि कोरोना संक्रमण के चलते स्कूल का खुलना संभव नहीं है। 

12 टीवी चैनलों से होगी पढ़ाई - बहरहाल स्कूल नहीं खुले तब भी क्षात्रों को ऑनलाइन पढ़ाने की तैयारी है। इसके तहत स्कूलों के लिए प्रस्तावित नए 12 नए टीवी चैनलों को जून के अंत तक शुरू करने की तैयारी चल रही है। एनसीईआरटी एवं केंद्रीय विद्यालय संगठन (केवीएस) दोनों को ही जल्द से जल्द इससे जुडी अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराने कहा गया है। 


NCERT एवं KVS उपलब्ध कराएंगे अध्ययन सामग्री - सरकार द्वारा NCERT एवं KVS को जल्द से जल्द अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराने निर्देशित किये है। इसके साथ ही इसके अलावा टीवी चैनलों के लिए समय पर अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराने की खातिर NCERT ने रोटरी इंडिया के साथ एक करार भी किया है। इसके तहत रोटरी इंडिया इ- कंटेंट तैयार करने का काम करेगी। जिसे एनसीईआरटी के मंजूरी के बाद टीवी चैनल पर प्रसारित किया जायेगा। 

24 घंटे संचालित होंगे 12 टीवी चैनल - स्कूलों के प्रस्तावित सभी 12 टीवी चैनल 24 घंटे संचालित होंगे। हालाँकि इनमे हर दिन 6 घंटे की अध्ययन सामग्री ही उपलब्ध कराई जाएगी , जो दिन में तीन बार रिपीट किया जायेगा। इसमें यदि कोई छात्र किसी पाठ का अध्ययन उस समय नहीं कर पाया तो बाद में कर सकता है। इसके अतिरिक्त जिन छात्रों के पास इंटरनेट,या मोबाइल उपलब्ध है उन्हें दूसरे वैकल्पिक माध्यमों से भी यानी यू ट्यूब,फेसबुक, गूगल क्लास आदि के माध्यम से पढ़ाने की योजना है। 




Post a comment

0 Comments