Health Tips लू से बचने के आसान घरेलु उपाय

लू से बचने के आसान घरेलु उपाय Health Tips लू से सम्बंधित विस्तृत जानकारी यहाँ देखें। 

Topic - Health Tips, Loo Lagna, Loo Kya Hoti Hai, Loo Ke Lakshan, Loo Se Bachne Aasan Gharelu Upay ,Kin Logo Ko Loo Ka Khatra Jyada Hota Hai , Loo Ke Upchar . 

Health Tips - हैल्लो दोस्तों आज हम आप लोगो के लिए अपने वेबसाइट a2zkhabri.com पर हेल्थ टिप्स से सम्बंधित आर्टिकल लेकर आये है। खासकर गर्मियों के दिन में लू का खतरा बहुत ज्यादा रहता है। कभी - कभी बहुत से लोग लू की चपेट में आकर अपनी जान गवां बैठते है। तो इस आर्टिकल के मदद से आप अपने बच्चों बड़े बुजुर्गों सहित अपने परिवार के सभी सदस्यों की लू से जान बचा सकते है। उसके लिए आपको हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ना होगा क्योंकि इस आर्टिकल में लू से सम्बंधित विस्तृत जानकारी दिया है। जिसे आप फॉलो कर गर्मियों के मौसम में हमेशा सेहत मंद रह सकते है। 



लू लगना /लू क्या होती है..... ? - लू से बचाने के घरेलु उपाय जानने से पहले आपको लू से सम्बंधित अन्य जानकारी को पहले जानना आवश्यक है। सबसे पहले जानते है लू लगना शरीर की वह रुग्ण अवस्था है ,जिसमे गर्मी के कारण शरीर का तापमान 40.0 डिग्री सेल्सियस के (104.0 डिग्री फारेनहाइट ) आसपास पहुँच जाती है। जिससे शरीर अत्यधिक गरम हो जाता है और बेचैनी महसूस होने लगती है। बेचैनी के साथ-साथ सर दर्द,चक्कर आना,त्वचा का शुष्क हो जाना ,अधिक प्यास लगना,गला,होंठ का सुख जाना और तेज बुखार आ जाना इसके प्रमुख लक्षण है। 

इसे भी देखें- मोबाइल के ज्यादा उपयोग से ब्रेन ट्यूमर के मरीज बढे , बच्चों को ज्यादा खतरा। 

गर्मी और गर्म हवाएं अक्सर शरीर को ऐसा प्रभावित करती है , जिससे जानलेवा स्थिति उत्पन्न हो जाती है। लू लगना भी इन्ही स्थितियों में से एक है। सबसे चौकाने वाली बात यह है की हमारे देश में साल दर साल प्रतिवर्ष गर्मी में लू से मरने वालो की संख्या में भारी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। अतः लू के खतरे से बचने के लिए लू क्या होती है..? , लू क्यों होती है... ? इससे कैसे बचा जा सकता है...? इन सभी जानकारी को जानना बहुत ही आवश्यक है। आपको, हमको यह बात हमेशा गांठ बांध रखनी चाहिए की इलाज से बेहतर हमेशा बचाव होती है। 

लू लगना वह स्थिति होती है जब शरीर में गर्मी और बढ़ते तापमान के वजह से उत्त्पन्न होती है। इस दौरान हमारा शरीर बहुत तेजी से बढ़ता है कभी कभी शरीर का तापमान 106 डिग्री फारेनहाइट तक पहुँच जाती है। शरीर में बढ़ते तापमान एवं एवं बाहरी तापमान के कारण शरीर ठंडा नहीं रह पाता और स्थिति  नाजुक हो जाती है। यदि समय पर इलाज न मिले तो आदमी की मृत्यु अथवा शरीर में स्थायी विकलांगता भी हो जाती है। 

इसे भी देखें- छत्तीसगढ़ के भाजी से भागेगा कोरोना , जाने भाजी के औषधीय गुण। 

लू के लक्षण - जब हमारे शरीर में में किसी चीज की कमी या बीमारी पहुंचती है तो शरीर हमें विभिन्न लक्षणों के माध्यम से सूचित करती है। उसी प्रकार यदि हम लू का शिकार होते है तो भी हमारा शरीर विभिन्न लक्षण या संकेत प्रदान करती है। लू के प्रमुख लक्षण निम्न है - 

1. तेज बुखार आना कभी कभी 106 डिग्री फारेनहाइट तक पहुँच जाती है। 

2. घबराहट और उत्तेजित होना और व्यवहार में परिवर्तन होना। 

3. बहुत जोर से प्यास लगना,होंठ एवं गला का सुख जाना, बार - बार पानी प्यास लगना। 

4. सर दर्द होना। 

5.  चक्कर आना जी मचलना,घबराहट होना। 

6. नाडी का तेज चलना। 

7. त्वचा का रुखा एवं गर्म होना। 

8. मांसपेशियों में भयंकर दर्द एवं ऐठन होना। 

9. आँखों के सामने अँधेरा छाना ,चक्कर आना। 

इसे भी देखें- प्रधान मंत्री आवास योजना आवेदन प्रक्रिया। 

लू लगने का खतरा किन लोगो को ज्यादा होती है - यदि बाहर धुप में लगातार मेहनत के कार्य करने से किसी को भी लू अपने चपेट में ले सकता है लेकिन फिर भी ऐसे लोगो को बच के रहना चाहिए - 

1. बच्चों एवं बूढ़ों को लू लगने का ख़तरा ज्यादा होता है क्योंकि इनमे तापमान नियंत्रण का सिस्टम कमजोर होता है। 

2. ह्रदय रोगी को लू का खतरा अधिक होता है। 

3. शारीरिक रूप से कमजोर व्यक्ति अथवा मोटापा पीड़ित व्यक्ति को। 

4. नशे की दवाइया लेने वाले व्यक्ति तथा ऐसे दवाई का सेवन कर रहे हो जो शरीर के सिस्टम को प्रभावित कर रहा हो। 

5. ऐसा स्वस्थ व्यक्ति भी जो अधिक देर तक धुप में हो और ठीक से अर्थात पर्याप्त मात्रा में पानी न पी  रहा हो। 

6. ऐसे बच्चे जो दिन भर धुप में घूम रहा हो या दिन भर धूप में खेल रहा हो। 

7. तेज गर्मी में लम्बी दौड़ या मैराथन में भाग लेने वाले खिलाडी को। 

लू से बचने आसान घरेलु उपाय- गर्मी के दिनों में बढे हुए तापमान से लू लगने का खतरा बढ़ जाता है। यदि आप चाहते है की लू से बचे रहे तो गर्मी के दिनों में निम्न उपाय अपना कर अथवा अपने खानपान में बदलाव कर आप आसानी से लू को मात दे सकते है अर्थात लू आपसे कोसो दूर रहेगी। चिलचिलाती धूप में घरेलु उपाय लू से बचाने बहुत कारगर होती है - 

1. धूप में निकलते समय पूरा शरीर ढकना चाहिए साथ ही बगैर छाते के बाहर नहीं निकलना चाहिए। 

2. घर से ठंडा पानी या शरबत पीकर निकलना चाहिए तथा बोतल में ठंडा पानी  लेकर घर से बाहर जाना चाहिए। 

3. तेज धुप से आने या काम करने के तुरंत बाद ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए साथ ही पसीना सूखने के बाद ही स्नान करना चाहिए। 

4. शरीर में पानी की पर्याप्त पूर्ति हेतु बार- बार पानी पीते रहना चाहिए। 

5. पानी में नीबू,नमक एवं हल्की मात्रा में शक्कर मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से लू के खतरों से कोसो दूर रहा जा सकता है। 

6. धुप में बाहर जाते वक्त खाली पेट नहीं रहना चाहिए। घर से कुछ खाकर ही निकलना चाहिए, ताकि शरीर को पर्याप्त शक्ति मिलती रहे। 

7. सब्जियों के सूप अथवा फलों के सूप का नियमित उपयोग करते रहना चाहिए। 

8. खाद्य सामग्री में दही,छाछ आदि का भरपूर उपयोग करना चाहिए। गर्मी के दिनों में हल्की भोजन ग्रहण करना चाहिए। 

9. प्याज का नियमित उपयोग तथा कहीं भी आते जाते समय पॉकेट में प्याज लेकर चलना चाहिए। 

10. धूप से आने के बाद प्याज के रस और शहद को मिलकर सेवन करना चाहिए। 

11. भोजन के बाद गुड़ का सेवन करना चाहिए जिससे लू का खतरा कम होता है। 

12. टमाटर की चटनी ,आम,नीबू ,नारियल चटनी ,नारियल पेठा का उपयोग करने से लू के खतरों से बचा जा सकता है। 

13. गर्मी में हलके ढीले और पूरी अस्तीन के कपङे पहनना चाहिए। गर्मी में काले रंग के कपङे पहनने से बचे। 

14. चावल पानी ,दाल पानी आदि का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए। 

15. ताजे और पानीयुक्त फल जैसे ककड़ी,खीरा,तरबूज आदि का भरपूर उपयोग करना चाहिए। 

16. गर्मी वाले कमरों में न रहे हो सके तो खुलीदार,हवादार,और एयर कंडीशनर कमरे में रहें। 

17. प्रतिदिन दो-तीन बार ठन्डे पानी से स्नान करना चाहिए। 

लू के प्रारंभिक उपचार - यदि किसी कारण वश आप लू की चपेट में आ जाते है तो निम्न प्राथमिक उपचार को अपना सकते है - 

1. सबसे पहले आपको नजदीकी अस्पताल में जाना चाहिए। 

2. यदि लू पानी की कमी से लगी हो तो आपको हाइड्रेट किया जायेगा ड्रीप लगाई जा सकती है। 

3. रोगी को ठंडी पेय पदार्थ खिलाना चाहिए और ठंडी बर्फ के पानी में रखना चाहिए ,जिससे शरीर के तापमान में कमी आये। 

4. ठन्डे पानी का भाप दिया जाना चाहिए। 

5. लू लगने पर जौ के आटे और प्याज को पीसकर शरीर पर लगाना चाहिए। 

6. कच्चे आम को कुटकर पैर के तलवे पर मालिश करनी चाहिए। 

7. शरीर में घमौरियां निकल आये तो पानी में बेसन मिलाकर लगाना चाहिए। 

निवेदन- इस जानकारी को कृपया अधिक से अधिक लोगो तक अवश्य शेयर करें। 

Post a comment

0 Comments