स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है पानी Health Tips , Lack Of Water In The Body

शरीर में न हो पानी की कमी , डिहाइड्रेशन के प्रमुख लक्षण , पानी की कमी से होती है गंभीर बीमारी Sharir Me Na Ho Pani Ki Kami , Health Tips , Lack Of Water In The Body 

a2zkhabri.com / Best Health Tips 2021 - हेलो दोस्तों आप सभी का हमारे वेबसाइट - a2zkhabri.com पर एक बार पुनः आप सभी लोगो का स्वागत है। इस पोस्ट में आप लोगो को हम शरीर में पानी की कमी से होने वाले गंभीर  दुष्परिणाम एवं पानी की कमी के सामान्य लक्षणों के बारे में बताएँगे। शरीर में अत्यधिक पानी की कमी के कारण कई लोगो की मौत भी हो जाती है। 

अन्य प्रमुख जानकारी इसे भी अवश्य देखें - 

कोरोना के नए लक्षण और जाँच में देरी बन रहा मौत का कारण। 

छात्रों को जनरल प्रमोशन के बाद अंक सूचि वितरित करने निर्देश जारी। 

पानी हमारे शरीर का प्रमुख रासायनिक तत्व है। यह शरीर के हर अंग और तंत्र को सुचारु रूप से कार्य करने के लिए आवश्यक है। जब शरीर में पानी का स्तर सामान्य से कम हो जाता है तो उसका प्रभाव आतंरिक एवं बाहरी रूप से दिखाई पड़ने लगती है। शरीर में पानी की कमी को डिहाइड्रेशन कहते है। गर्मी के मौसम में अन्य मौसमो की तुलना में डिहाइड्रेशन की समस्या ज्यादा रहती है। क्योंकि तापमान में बढ़ोतरी शरीर में पानी के स्तर को प्रभावित करती है। 

डिहाइड्रेशन के प्रमुख लक्षण -

शरीर में पानी की कमी होती है तो निम्न लक्षण सामने आते है जिसे आसानी से पहचाना या समझा जा सकता है - 

     मुंह सुखना 

     त्वचा का मुरझाना 

     होंठ फटना 

     थकावट महसूस होना 

     पेशाब कम आना 

     चक्कर आना 

पानी के कमी के प्रमुख दुष्परिणाम - पानी की कमी के बेहद गंभीर परिणाम होते है , समय पर यदि ध्यान नहीं दिया गया तो डीहाड्रेशन का शिकार भी होना पड़ सकता है। पानी की कमी के नीचे कुछ लक्षण दिए गए है जिसे आप देखें - 

1. मुंह से दुर्गन्ध आना - डिहाइड्रेशन के कारण मुंह से दुर्गन्ध आ सकती है। जब शरीर में पानी की कमी होती है तो मुंह में लार की मात्रा कम हो जाती है , जिससे बैक्टेरिया को पनपने का मौका मिल जाता है। जिस कारण से मुंह से दुर्गन्ध आने लगती है। 

2. त्वचा का रुखा और बेजान होना - शरीर में पानी की कमी होने से त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है। अगर आप चाहते है कि आपका त्वचा स्वस्थ एवं कांतिमय बना रहे तो पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। 

3.थकान होना - जब शरीर में पानी का स्तर कम होता है , तब रक्त दाब कम हो जाता है और दिल की धड़कन की गति बढ़ जाती है। इससे मस्तिष्क की ओर रक्त का प्रवाह कम हो जाती है। जिस कारण से आप थकान का अनुभव करते है। और ऐसे में कभी - कभी चक्कर भी आने लगती है। 

4. ध्यान केंद्रित करने की क्षमता कम होना - शरीर में पानी की कमी मानसिक क्रियाशीलता को प्रभावित करती है।, इससे ध्यान केंद्रित करने की क्षमता कम हो जाती है। शरीर में पानी की कमी के कारण सिरदर्द और चिड़चिड़ेपन का समस्या हो जाती है। 

शरीर को कैसे प्रभावित करती है पानी - हमारे शरीर में दो - तिहाई पानी होता है। अगर इसमें डेढ़ - दो फीसदी की कमी हो जाती है तब इसे माइल्ड डिहाइड्रेशन कहते है। पानी के स्तर में 3 से 8 प्रतिशत की कमी होने पर शरीर की कार्यप्रणाली अंगो पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने लगती है। 

पानी की मात्रा को ऐसे बनाये रखें - 

1. चाय , काफी और दूसरे कैफीन युक्त ड्रिंक्स पीने के शौक़ीन है तो पानी का भरपूर मात्रा का सेवन भी करें। 

2. घर या ऑफिस जहा पर आप काम करते है वह पानी बॉटल अवश्य रखें ताकी , पानी पीने की आदत बनी रहे। 

3. अगर आप सादा पानी पीना पसंद नहीं करते तो नीबूं, पानी , नारियल पानी , छाछ  का सेवन करें। 

4. फ्रूट , सलाद , दही , लस्सी या मिल्क सेक का उपयोग करें। 

5. तेज धुप और गर्मी में बाहर निकलने से बचे , क्योंकि इससे शरीर का तापमान बढ़ता है और शरीर में पानी की कमी होती है। 

6. गर्मी में डिहाइड्रेशन से बचने के लिए दिन में कम से कम 2 से 3 लीटर पानी पिएं। 

Post a Comment

0 Comments