पंचायत सचिवों को कोविड - 19 बीमा कवर , शिक्षकों की उपेक्षा Panchayat Sachiv Gets Benifits Of Covod - 19 Insurance Cover

पंचायत सचिव को लाया गया कोरोना बीमा कवर के दायरे में , शिक्षकों की उपेक्षा , शासन की दोहरी नीति Panchayat Sachiv Gets Benifits Of Covod - 19 Insurance Cove

a2zkhabri.com रायपुर - छत्तीसगढ़ शासन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के द्वारा जारी आदेशानुसार पंचायत सचिवों को कोरोना वारियर्स बीमा कवर के दायरे में लाया गया है। यह बड़ी खुशी की बात है। ज्ञात हो की प्रदेश में दर्जनों पंचायत सचिवों ने ड्यूटी के दौरान कोरोना से संक्रमित होकर अपनी जान गवाई है। पंचायत सचिवों को कोरोना बीमा कवर के अंतर्गत लाने हेतु आवश्यक कार्यवाही के सम्बन्ध में विभाग से आदेश भी जारी हो गए है।

30 से 35 शिक्षकों की कोरोना से मौत के बाद भी उपेक्षा - प्रदेश के सभी शिक्षक संगठनों ने प्रदेश में कोरोना वारियर्स के रूप में ड्यूटी कर रहे शिक्षकों को भी बीमा कवर के दायरे में लाने हेतु लगातार मांग कर रहे है। लेकिन स्कूल शिक्षा विभाग के जिम्मेदार अधिकारी और शासन इस पर कोई कार्यवाही नहीं कर रही है। पंचायत सचिवों को बीमा कवर के दायरे में लाना स्वागत योग्य है। इसी प्रकार शिक्षकों को भी बीमा कवर के दायरे में लाया जाए। प्रदेश में पिछले एक वर्ष में लगभग 30 से 35 शिक्षकों ने ड्यूटी के दौरान संक्रमित होकर अपनी जान गवाई है। इसके बावजूद सरकार शिक्षकों की उपेक्षा कर रही है। 

आदेश डाउनलोड करें - 

छत्तीसगढ़ शासन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जारी आदेशानुसार, ग्राम पंचायत स्तर पर प्रवासी श्रमिकों के लिए समय - समय पर क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए है। इन क्वारंटाइन सेंटरों में प्रवासी श्रमिकों एवं बाहर से आने वाले व्यक्तियों के लिए भोजन , पानी आदि की व्यवस्था की जिम्मेदार ग्रामा पंचायत सचिवों के द्वारा निभाई जाती है। निम्न 4 बिंदुओं में आदेश जारी किये गए है - 

1. कोविड - 19 के रोकथाम हेतु पंचायत सचिवों का मुख्यतः कोरोना टेस्ट हेतु शिविर लगाने, क्वारंटाइन सेंटर की व्यवस्था , कोरोना से मृत व्यक्तियों की हॉस्पिटल से परिवहन की व्यवस्था , अंतिम संस्कार में सहयोग , कोरोना टीकाकरण में सक्रीय सहभागिता है। 

2. कोरोना गतिविधियों एवं क्वारंटाइन सेंटर में संक्रमित व्यक्तियों की देखभाल के दौरान 12 पंचायत सचिवों ने भी संक्रमित होकर मृत हो गए। मृतक पंचायत सचिवों के परिवार के भरण पोषण हेतु मानवीय संवेदना के आधार पर शासन से आर्थिक सहायता दी जा कर कार्यरत सचिवों को बीमा कवर भी किया जा सकता है। 

3. कोरोना वैश्विक महामारी संक्रमण के रोकथाम में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के कर्मचारियों के सामान ही पंचायत सचिव भी अहम् भूमिका निभाते है। इन कार्यों के दौरान सैकड़ों पंचायत सचिव भी संक्रमित पाए गए। जिसमे से 12 पंचायत सचिवों की मृत्यु भी हो गई। 

4. अतः उपरोक्त परिस्थितियों को देखते हुए कोरोना संक्रमण की रोकथाम में लगे पंचायत सचिवों को भी स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की तरह बीमा से कवर कर निधन की स्थिति में बीमा लाभ / आर्थिक सहयोग दिए जाने हेतु आवश्यक पहल किया जाएं। 

आदेश नीचे डाउनलोड करें - 

ज्ञात हो की उक्त सभी कार्यों को शिक्षक भी बड़ी ईमानदारी से करते आ रहे है। इस दौरान 30 से 35 शिक्षक  संक्रमित होकर अपनी जान गवाएं है। सरकार को शिक्षकों के प्रति भी मानवीय संवेदनाएं रखते हुए शिक्षा विभाग के कर्मचारियों को यथाशीघ्र बीमा कवर दिए जाने चाहिए। 

Post a comment

0 Comments