नए लक्षण और देरी से जाँच बन रहा मौत का कारण , संक्रमितों के प्रमुख लक्षण यहाँ देखें CG Corona Latest Breaking Update

कोरोना संक्रमण के दूसरे लहर में नए लक्षण आए सामने , जाँच में विलम्ब बन रहा मौत का कारण CG Corona Latest Breaking Update 

a2zkhabri.com रायपुर - कोरोना का दूसरा लहर देश के ज्यादातर हिस्सों में पहुँच गई है। महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ फिलहाल कोरोना के संक्रमण से ज्यादा प्रभावित है। महाराष्ट्र में प्रतदिन 40 - 50 हजार मरीज मिल रहे वही छत्तीसगढ़ में 15 हजार के आसपास प्रतिदिन मरीज मील रहे है। जो आने वाले दिनों में इसकी संख्या और बढ़ सकती है। छत्तीसगढ़ में अकेले प्रतिदिन 100 से 150 लोगो की जान जा रही है। 

इसे भी अवश्य देखें ब्रेकिंग न्यूज़ - 

👉12 वीं बोर्ड परीक्षा स्थगित , देखें विवरण। 

👉जनरल प्रमोशन के बाद छात्रों को अंकसूची वितरण करने निर्देश जारी , कैसे बनेगा मार्कशीट यहाँ देखें। 

विशेषज्ञों की राय दूसरी लहर ज्यादा खतरनाक - विशेषज्ञों की राय में कोरोना की यह दूसरी लहर ज्यादा खतरनाक है। इस बार मरीजों में उल्टी और दस्त जैसे नए लक्षण भी दिखाई दे रहे है। नए लक्षण और देरी से जाँच कराना इस बार घातक साबित हो रहा है। राज्य में पिछले 3 दिनों में 19 लोगो की जान अस्पताल पहुँचने से पहले ही घर में ही चली गई। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार घर में मरने वाले मरीजों की उम्र 45 वर्ष से अधिक है। 

प्राप्त जानकारी अनुसार घर में मरने वाले दर्जन भर लोगो में सामान्य लक्षण थे जैसे - कफ, कमजोरी, साँस फूलने की परेशानी , सुखी खांसी , डायरिया, पेट दर्द , हल्की बुखार जैसे सामान्य लक्षण थे। जब उन्हें साँस लेने में तकलीफ हुई तो उन्हें अस्पताल लाया जा रहा था। ऐसे मरीज रास्ते में ही अथवा घर में ही दम तोड़ दिए। 

संक्रमितों के प्रमुख लक्षण - एम्स के डायरेक्टर डॉ. नितिन एम नागरकर ने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमितों में कई लक्षण नए है। जिन्हे आम आदमी नजर अंदाज कर रहा है और नजर अंदाज करना ही उन्हें भारी पड़ रहा है। उन्होंने बताया की हल्की बुखार , सुखी खांसी, थकान , आँखों का लाल होना, सर दर्द, गंध नहीं आना, सीने में दर्द, साँस लेने दिक्कत, उल्टी, दस्त, पेट में ऐठन, स्किन पर जलन,डायरिया, बहती हुई नाक एवं अपच इस बार का प्रमुख लक्षण है। 

चपेट में बच्चे भी - कोरोना की दुसरी लहर में लापरवाही की वजह से बच्चे और युवा वर्ग ज्यादा चपेट में आ रहे है। स्वास्थ्य विभाग के आकड़े के अनुसार अकेले रायपुर में एक अप्रैल से 10 अप्रैल के बीच 10 वर्ष तक के आयु वाले 825 कोरोना पीड़ित सामने आए। जबकि 11 से 20 वर्ष के 1994 पीड़ित सामने आए। यह पिछले वर्ष के मुकाबले 4 गुना है। शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. रिमझिम श्रीवास्तव का कहना है की कोरोना कला दूसरा फेज बच्चों सहित सभी लोगो के लिए ज्यादा खतरनाक है , इस बार के लक्षण आसानी से समझ नहीं आ रहे। 

डॉ. की नजर में इस वजह से फैला कोरोना का दूसरा संक्रमण - 

1. पिछले दिनों लोग लापरवाह हुए जिसका नजीता यह आज गंभीर परिणाम देखने को मिल रहा है। 

2. वायरस के स्ट्रेन में एफिशिएंसी ऑफ ट्रांसमिशन को बढ़ाने वाले म्यूटेशन है। यह शरीर के ए - 2 रिसेप्टर को आसानी से कैच कर रहा है। 

3. स्कूल खोले गए और शुरूआती दिनों में कोविड - 19 गाइडलाइन का पालन नहीं हुआ। 

4. स्कूल में बच्चे एक जगह इकठ्ठा हुए जिस काऱण से संक्रमण तेजी से फैला। 

5. बच्चों द्वारा जमकर होली खेली गई जिस कारण से बच्चे ज्यादातर कोरोना के चपेट में आ रहे है। 

6. पिछले वर्ष बच्चे घर में थे ,लेकिन इस वर्ष लापरवाही बरत रहे है। बच्चे ज्यादातर बाहर खेल रहे, पालक ध्यान नहीं दे रहे। 

निवेदन - कृपया कोरोना गाइडलाइन सहित लाकडाउन का शतप्रतिशत पालन करें , शारीरिक दुरी बनाए रहे , मास्क सेनेटाइजर का उपयोग करें। कोरोना से लड़ने हेतु घर पर रहकर अपना बहुमूल्य योगदान देवें।

Post a comment

0 Comments