अंतिम वर्ष की परीक्षा सहित विवि और कालेजों की लंबित परीक्षाएं होगी रद्द College Exam 2020

कालेजों एवं विवि की बाकी सभी परीक्षाएं होगी रद्द मिलेगी सभी को जनरल प्रमोशन College Genral Pramotion 2020 


College Exam 2020- कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए विश्वविद्यालयों एवं कालेजों की लंबित परीक्षाएं भी अब रद्द होने वाली है। हालाँकि ऐसे विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय जो घर बैठे ओपन बुक जैसे तरीके अथवा ऑनलाइन माध्यम से परीक्षा लेने में सक्षम हो उन्हें परीक्षा लेने की अनुमति दी जा सकती है। लेकिन इसकी सम्भावना न के बराबर है क्योंकि परीक्षार्थियों की संख्या अनुसार संसाधन व्यवस्था कर पाना संभव नहीं लग रहा। 

इसे भी देखें - कालेजों में जनरल प्रमोशन लेकिन प्राइवेट परीक्षार्थियों को कोई लाभ नहीं। 

1 हजार विश्वविद्यालय और 45 हजार है कालेजों की संख्या- वैसे तो मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए ज्यादातर विश्वविद्यालयों एवं कालेजों ने परीक्षाएं कराने से हाँथ खड़े कर दिए है। साथ ही इसकी रिपोर्ट भी मानव संसाधन विकास मंत्रालय और यूजीसी दोनों को दिया जा चूका है। मौजूदा समय में देश में करीब एक हजार विश्वविद्यालय एवं 45 हजार के लगभग महाविद्यालय है। 

पहले भी परीक्षाएं हो चुकी है रद्द - कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए मानव संसाधन विकास मंत्रालय इससे पहले सीबीएसई एवं आईसीएसई की 10 वीं एवं 12 वीं की लंबित परीक्षाएं रद्द कर चूका है। जो विश्वविद्यालय एवं कालेजों के परीक्षाओं के साथ ही एक से 15 जुलाई तक प्रस्तावित थी। फिलहाल कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए विवि एवं कालेजों ने भी इन परीक्षाओं को रोक रखा है। 

इसे भी देखें- केंद्र सरकार की एक परिवार एक नौकरी योजना 2020 

यूजीसी एक - दो दिन में जल्द जारी करेगा आदेश - प्राप्त विश्वसनीय सूत्रों की माने तो यूजीसी इन परीक्षाओं को लेकर अगले एक - दो दिन में इन परीक्षाओं को लेकर फैसला ले लेगा। वैसे भी अनलॉक - 2 में शैक्षणिक संस्थानों में 31 जुलाई तक बंद रखने के फैसले के चलते जुलाई में परीक्षा हो पाना संभव ही नहीं है। 

उच्च स्तरीय समिति गठित - इस बीच इन सारी उलझनों से निपटने के लिए यूजीसी ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय के निर्देश पर हरयाणा विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफ़ेसर केसी कुहाड़ की अगुआई में एक उच्च स्तरीय समिति गठित कर रखी है। प्राप्त सूत्रों के अनुसार समिति ने अपनी रिपोर्ट दे दी है। जिसमे परीक्षाओं सहित छात्रों को प्रमोट करने के तरीके और नए शैक्षणिक सत्र को लेकर पूरी गाइडलाइन है। 

इसे भी देखें- शिक्षक भर्ती एवं संविलियन हेतु अभी और करना होगा इन्तजार - मुख्यमंत्री 

क्या है रिपोर्ट में - सूत्रों की माने तो कमिटी ने लंबित सभी परीक्षाओं को रद्द करने को ही बेहतर विकल्प माना है। साथ ही कहा कि परीक्षाओं को और आगे टालने से नए शैक्षणिक सत्र को शुरू करने में देरी होगी। फ़िलहाल नए शैक्षणिक सत्र को 1 सितम्बर से लागु करने की योजना है। हालाँकि इस पर अंतिम निर्णय यूजीसी बोर्ड को करना है। 

ऐसे मिलेगा अंक - सूत्रों के मुताबिक यूजीसी अगले एक - दो दिनों में जारी होने वाली अपनी संसोधित गाइडलाइन में रद्द होने वाली परीक्षाओं के प्रमोट करने के फार्मूला भी पेश करेगा। इसमें आंतरिक मूल्यांकन या फिर पिछले समेस्टर के औसत के आधार पर अंक प्रदान किया जा सकता है। इसके साथ ही छात्रों को बाद में अंक सुधार के लिए परीक्षा का विकल्प भी दिया जायेगा। यूजीसी इससे भी पहले विवि की परीक्षाओं के सन्दर्भ में गाइडलाइन जारी कर चूका है। 

इसे भी देखें- पर्दे पर धोनी का किरदार निभाने वाले बॉलीवुड के मशहूर हीरो ने की आत्महत्या। 



Post a comment

0 Comments