22 हजार प्राथमिक प्रधान पाठक के पदों में होगी पदोन्नति , शिक्षक और व्याख्याता के भी पदों में होगी पदोन्नति,,देखें रिक्त पदों की जानकारी There Will Be Promotion In The posts Of 22 Thousand Primary Head Teachers

22 हजार प्राथमिक प्रधान पाठक के पद सहित शिक्षक और व्याख्याता के इतने पदों में होगी पदोन्नति ,, केबिनेट बैठक में मिली मंजूरी There Will Be Promotion In The posts Of 22 Thousand Primary Head Teachers 

a2zkhabri.com रायपुर - केबिनेट बैठक में आज सहायक शिक्षकों के पदोन्नति का रास्ता खुल गया। मुख्यमंत्री निवास में हुई केबिनेट बैठक में 5 वर्ष की सेवा शर्त को शिथिल करते हुए तीन वर्ष निर्धारित कर दिया। अब 01 जुलाई 2018 को पंचायत विभाग में शिक्षा विभाग में संविलियन हुए सहायक शिक्षकों का तीन वर्ष के सेवा काल के बाद उच्च वर्ग शिक्षक और प्राथमिक प्रधान पाठक के पदों में पदोन्नति होगी। साथ ही शिक्षकों की व्याख्याता के पदों में भी पदोन्नति होगी। संभाग वार रिक्त पदों की संख्या नीचे देखें। 

ब्रेकिंग - सहायक शिक्षक बनेंगे प्रधान पाठक , 3 वर्ष की सेवा में होगी पदोन्नति , देखें मंत्रिमंडल के सभी निर्णय। 

संभागवार प्रधानपाठक के रिक्त पद -प्राप्त जानकारी अनुसार पुरे प्रदेश में लगभग 22 हजार प्राथमिक प्रधान पाठक के पद रिक्त है , उक्त रिक्त पदों में 100% (22000 पदों में ) सहायक शिक्षक एलबी संवर्ग के शिक्षकों की ही पदोन्नति होगी - 

       बिलासपुर संभाग - 4690 

       रायपुर संभाग - 5072 

       दुर्ग संभाग - 4267 

       बस्तर संभाग - 3648 

       सरगुजा संभाग - 4032 

वर्तमान भर्ती एवं पदोन्नति नियम 2019 में भी प्रधान पाठक प्राथमिक शाला के पद 100 प्रतिशत पदोन्नति से ही भरे जायेंगे। जिसमे सहायक शिक्षक एलबी संवर्ग की ही पदोन्नति होगी इसका कारण है कि पूर्व के सहायक शिक्षक शेष ही नहीं है , जो है या तो पात्रता नहीं रखते अथवा प्रधान पाठक के पद पर जाना नहीं चाहते। 

ब्रेकिंग - वेतन विसंगति दूर नहीं होने पर दिसम्बर से अनिश्चितकालीन आंदोलन - फेडरेशन। 

उच्च प्राथमिक शाला एवं हाई स्कूल के रिक्त पद - आज के केबिनेट बैठक में लिए गए निर्णय अनुसार सहायक शिक्षकों की प्रधान पाठक प्राथमिक शाला एवं उच्च वर्ग शिक्षक के पदों में पदोन्नति के साथ - साथ शिक्षकों की व्याख्याता के पदों में भी पदोन्नति होगी। मिडिल एवं है स्कूल में लगभग निम्नानुसार पर रिक्त है - 

     उच्च वर्ग शिक्षक - 08 हजार 

     मिडिल स्कूल प्रधान पाठक - 06 हजार 

     व्याख्याता - 10 हजार 
 
     प्राचार्य - 2800 

शिक्षक नेताओं ने फैसले का किया स्वागत , वही वेतन विसंगति और क्रमोन्नति पर कही यह बात - आज के केबिनेट बैठक में लिए गए निर्णय को शिक्षक नेताओं ने स्वागत योग्य बताया है लेकिन उन्होंने सहायक शिक्षकों के वेतन विसंगति और क्रमोन्नति के मांग को भी यथा शीघ्र पूर्ण करने का अपील किये है। ज्ञात हो कि सहायक शिक्षक सारी योग्यता होने के बावजूद 20 - 20 सालों से एक ही पद में है। सभी सहायक शिक्षक पदोन्नति का इन्तजार कर रहे थे।सरकार के उक्त निर्णय से सहायक शिक्षकों ने मिली जुली प्रक्रिया दी है। 

 
वेतन विसंगति अभी भी प्रमुख मुद्दा - सरकार ने हालांकि प्रमोशन के द्वार सहायक शिक्षकों के लिए खोल दिए हो लेकिन इस का फायदा सभी सहायक शिक्षकों को नहीं मिलेगा 20 से 30 हजार सहायक शिक्षकों को फायदा मिलने के बाद भी 80 हजार सहायक शिक्षक पदोन्नति एवं क्रमोन्नति से वंचित होंगे। ऐसे में सहायक शिक्षकों का प्रमुख मांग पदोन्नति के साथ - साथ वेतन विसंगति दूर एवं क्रमोन्नति है। वेतन विसंगति दूर होने या क्रमोन्नति मिलने से ही शत प्रतिशत सहायक शिक्षकों को लाभ मिलेगा। 


महंगाई भत्ता के मुद्दे में निराशा हाथ लगी - आज के केबिनेट बैठक में सहायक शिक्षकों के पदोन्नति का रास्ता तो खोला गया लेकिन कर्मचारी महंगाई भत्ते की भी उम्मीद लगाए बैठे थे। लेकिन आज के केबिनेट बैठक में महंगाई भत्ते पर कोई चर्चा नहीं हुई। आगामी दिनों में महंगाई भत्ता सहित अन्य मुद्दों पर आंदोलन की स्थिति निर्मित होने की संभावना है। 

Post a Comment

0 Comments