आकाशीय बिजली,गाज से बचाएगा दामिनी एप्प बिजली गिरने से पहले करेगी अलर्ट Damini App Will Alert With Lightning

आकाशीय बिजली (गाज) से बचाएगा दामिनी एप्प बिजली गिरने से पहले करेगी अलर्ट Damini  App Will Alert With Lightning 



Topic - Damini Lightning Alert App , Aakashiy Bijli Kyo Girti Hai , Aakashiy Bijli Girne Ke Karan, Aakashiy Bijli Se Bachav, Tadit Chalak Kya Hota Hai ,Tadit Chalak Kaise Kary Karta Hai . 

Damini Lightning Alert App 2020- हेलो दोस्तों आज हम आप लोगो के लिए अपने वेबसाइट - a2zkhabri.com पर बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी लेकर आये है। आज हम आप लोगो को एक ऐसे मोबाइल एप्प की जानकारी बताएँगे जो आकाशीय बिजली / गाज से सम्बंधित जानकारी प्रदान करती है। इस एप्प की मदद से आप आकाशीय बिजली की चपेट में आने से बच सकते है। 

भारतीय मौसम विभाग और आईआईटी पुणे के विशेषज्ञों ने एक एप्प बनाया है। जो आकाशीय बिजली गिरने के पहले ही लोगो को अलर्ट करती है। इस एप्प का उपयोग करने मौसम  विभाग के वैज्ञानिक भी कह रहे है। वर्तमान में अभी रायपुर के मौसम विज्ञान केंद्र ने आकाशीय बिजली से अलर्ट करने वाले दामिनी एप्प के इस्तेमाल हेतु सलाह दी है। 

आकाशीय बिजली से बचाने वाले एप्प की जानकारी के साथ - साथ आप नीचे दिए जानकारी को भी अवश्य जाने

क्यों गिरती है आकाशीय बिजली - आप सभी भली भांति जानते है  की बिजली गिरने की ज्यादातर घटनाये मानसून अर्थात बारिश के मौसम में होती है। बारिश के मौसम में आपको प्रायः प्रतिदिन आकाश में सर्पाकार विद्युत् तरंगे तथा गरजने की आवाज आसानी से सुनाई पड़ती है। 

तो चलिए जानिए क्यों गिरती है बिजली - जब आसमान में अपोजिट एनर्जी के बादल हवा में उमड़ते घुमड़ते हुए जब ये तेजी से एक दूसरे के अपोजिट दिशा में जाते हुए टकराते है तो इनके बीच भयंकर घर्षण पैदा होता है। और इसी घर्षण के वजह से आसमान में बिजली पैदा हो जाती है। बिजली पैदा होने के बाद यह आसमान में कंडक्टर ,संचालक तलाशती है लेकिन आसमान में संचालक ,कंडक्टर के आभाव में धरती पर पहुँचने के लिए माध्यम तलाश करती है। यदि आकाशीय बिजली खम्भों,पेड़,टावर आदि के निकट पहुँचती है तो उन्हें संचालक के रूप में प्रयुक्त कर सीधे जमीन पर चली जाती है। बिजली जिस माध्यम से जमीन में जा रही होती है उसके आस-पास रहने वाले मनुष्य या जीव जंतु भी चपेट में आ जाते है और उनकी मृत्यु हो जाती है। 

आकाशीय बिजली अलर्ट दामिनी एप्प कैसे करता है काम - यह एप्प बिजली गिरने के 30 से 40 मिनट पहले अलर्ट करता है। इससे जनहानि से काफी हदों तक बचा जा सकता है। यह एप्प सचेत करता है की बिजली गिरने वाली है और आप इस क्षेत्र से हट जाये या अंदर चले जाये। आम जनता के साथ-साथ राज्य सरकार के लिए भी यह एप्प काफी मददगार हो सकता है। 




क्या आपको मालूम है की प्रतिवर्ष हमारे देश में बिजली गिरने से कितने लोगो की मौत होती है ? यदि आपको नहीं पता तो हम आपको  बताते है। हमारे देश में प्रति वर्ष दो से ढाई हजार लोगो की मौत बिजली गिरने से होती है। अभी वर्तमान में छत्त्तीसगढ़ में लगभग दो महीने के भीतर लगातार बस्तर,सरगुजा,जशपुर समेत मैदानी इलाकों में भी भारी बारिश,ओले,अंधड़ के साथ-साथ बिजली गिरने की घटनाये हो रही है जिसमे कई लोगो की जान भी जा चुकी है। 

दामिनी एप्प 40 किलोमीटर की परिधि में करता है काम - रायपुर मौसम विज्ञान केंद्र के मौसम वैज्ञानिक एच पी चंद्रा ने बताया की यह एप्प बिजली गिरने से पहले आपको अलर्ट करेगा। इसे गूगल प्ले स्टोर से किसी भी स्मार्ट फ़ोन में डाउनलोड किया जा सकता है। दामिनी एप्प को डाउनलोड करते ही यह आपके लोकेशन को गूगल के जरिये ट्रेस कर लेता है। इससे 40 किलोमीटर की परिधि में यदि कही बिजली चमक रहा हो या बिजली गिरले वाला हो तो यह एप्प आपको बता देगा। जिससे आप सुरक्षित स्थान पर चले जाएँ। 

आकाशीय बिजली मनुष्य पर गिरता है तब क्या होता है - आपने हमेशा समाचार पत्रों या न्यूज़ चैनल के माध्यम से अवश्य देखा या पढ़ा होगा कि आकाशीय बिजली की चपेट में आने से इतने लोगो की मौत। जब शरीर पर गाज / बिजली गिरती है तो शरीर पर इसका भयानक असर पड़ता है। बिजली की चपेट में आने से मानव शरीर अत्यधिक गर्म ,डीप बर्न हो जाता है जिससे शरीर के टिशूज डैमेज या ख़त्म हो जाते है। और इन्हे आसानी से ठीक भी नहीं किया जा सकता। बिजली का असर नर्वस सिस्टम पर भी प्रभाव डालता है जिससे शरीर अपंग होने लगती है और हार्ट अटैक से मौत हो जाती है। 

तड़ित चालक क्या होता है - तड़ित चालक एक धातु की छड़ होती है, जिसे ऊँचे भवनों के छत पर आकाशीय विद्युत् से रक्षा के लिए लगाया जाता है। तड़ित चालक का ऊपरी सीरा नुकीला होता है और इसे भवन के सबसे ऊपरी सीरा पर लगाया/जड़ा जाता है। इस तड़ित चालक को तांबे के तार से जोड़कर ,तार को नीचे जमीन में गाड़ दिया जाता है। जहाँ पर तांबे के सिरे को जिस गड्ढा में गाड़ा जाता है वहां पर नमक कोयला को भी उस तार के साथ जमीन में दबा दिया जाता है। जब आकाशीय बिजली तड़ित चालक के संपर्क में आता है तो भवन एवं  उसमे रहने वाले इंसानो को बिना क्षति पहुंचाए सीधे जमीन में समा जाती है। 

आकाशीय बिजली से कैसे बचें- दोस्तों यदि आप लोग आकाशीय बिजली के खतरे से बचना चाहते है तो नीचे दिए सभी पॉइंट को अच्छे से अवश्य पढ़े और पालन करें। 

1. दामिनी एप्प का उपयोग करें। 

2. अपने घरो में तड़ित चालक अवश्य लगवाए। 

3. आंधी तूफान,बारिश ,बिजली चलते ही अपने घर के सभी विद्युत् उपकरण को बंद कर दे। मोबाइल का उपयोग बिलकुल भी न करें। 

4. नंगे पैर जमीन पर खड़े न रहे। 

5. पेड़ के नीचे या खुले मैदान में जाने से बचे। 

6. मौसम ख़राब होते ही घर में आ जाये। यदि बाहर है या सफर कर रहे है तो किसी के घर रुक जाएँ। छत में बिलकुल भी न चढ़े। 

7. खुले मैदान में है तो आसपास के बिल्डिंग में जल्द से जल्द छुप जाये। 

आकाशीय बिजली से जुड़े कुछ तथ्य- 

1. आकाशीय बिजली का तापमान सूर्य के ऊपरी सतह से ज्यादा होता है। 

2. दोपहर के वक्त बिजली गिरने की सबसे ज्यादा सम्भावना होती है। 

3. एक अध्ययन अनुसार आकाशीय बिजली महिलाओं की तुलना में पुरुषो को ज्यादा हानि पहुंचाती है। 

4. आकाशीय बिजली की क्षमता 300 किलो वाट अथवा 12.5 करोड़ वाट होती है। 

5. आकाशीय बिजली मिली सेकंड से भी कम समय के लिए ठहरती है। 

आकाशीय बिजली से सम्बंधित कुछ भ्रांतियां- 

1. आकाशीय बिजली एक जगह पर दो बार नहीं गिरती। 

2. बिजली की चपेट मे आये व्यक्ति को गोबर में गाड़ने से मरीज का ठीक होना। 

3. रबर टायर,फोम इससे बचाव करते है। 

4. गोबर पर बिजली गिरने से गोबर का सोना बन जाना। 

5. छत में बिजली गिरने से सरिया का अष्टधातु में बदल जाना। 

6. पीपल,बरगद पेड़ पर ज्यादा बिजली गिरती है। 

निवेदन- इस जानकारी को कृपया अधिक से अधिक लोगो तक अवश्य शेयर करें। 

Post a comment

0 Comments